करंट अफेयर्स 9 जून 2017

विश्व महासागर दिवस: 8 जून

  • 8 जून, 2017 को संपूर्ण विश्व में ‘विश्व महासागर दिवस’ (World Oceans Day) मनाया गया।
  • वर्ष 2017 में इस दिवस का मुख्य विषय (Theme) ‘हमारे महासागर’ हमारे भविष्य’ (Our Oceans, Our Future) है।
  • इस दिवस का उद्देश्य विश्व में महासागरों की महत्वपूर्ण भूमिका के प्रति लोगों को जागरूक करना है।
  • वर्ष 1992 में रियो डी जेनेरियो में हुए पृथ्वी सम्मेलन में इस दिवस को मनाने की घोषणा हुई थी।
  • दिसंबर, 2008 में सुयक्त राष्ट्र महासभा ने प्रतिवर्ष 8 जून को ‘विश्व महासागर दिवस’ मनाए जाने की आधिकारिक घोषणा की।
  • प्रथम ‘विश्व महासागर दिवस’ 8 जून, 2009 को मनाया गया था।

लेडी हार्डिंग में खुला मानव दूध बैंक और लैक्टेशन काउंसिलिंग सेंटर

  • लेडी हार्डिंग मेडिकल कॉलेज में बुधवार को वत्सल्य ‘मातृ अमृत कोष’ नाम से राष्ट्रीय मानव दूध बैंक और लैक्टेशन काउंसिलिंग सेंटर का उद्घाटन स्वास्थ्य और परिवार कल्याण (एचएंडएफडब्ल्यू) सचिव, सी के मिश्रा के द्वारा किया गया। 
  • यह दिल्ली स्थित पहला सरकारी मानव दूध बैंक होगा। जिससे उन लोगों की मदद हो सकेगी जो बच्चों को जन्म के बाद मां का दूध किन्हीं कारणों से पिलाने में अक्षम होते थे। 
  • यह एक क्रांतिकारी कदम है। 
  • ‘मातृ अमृत कोष’ दुग्ध बैंक की स्थापना से नवजात शिशुओं और प्री-मेच्योर बच्चों को स्तनपान कराने में अक्षम महिलाएं अपने बच्चों के लिए मां का दूध ले सकेंगी।

पूर्वोत्तर राज्यों के लिए “पहाड़ी क्षेत्र विकास कार्यक्रम” की हुई घोषणा

  • केंद्रीय पूर्वोत्तर विकास राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) और प्रधानमंत्री कार्यालय, कार्मिक, जन-शिकायत, पेंशन, परमाणु ऊर्जा और अंतरिक्ष राज्यमंत्री डॉ. जितेन्द्र सिंह ने आज मणिपुर की राजधानी इंफाल में पूर्वोत्तर राज्यों के लिए “पहाड़ी क्षेत्र विकास कार्यक्रम (एचएडीपी)” की घोषणा की।
  • डॉ. जितेन्द्र सिंह पूर्वोत्तर वित्त निगम लिमिटेड द्वारा आयोजित और पूर्वोत्तर क्षेत्र के विकास के लिए मंत्रालय और मणिपुर सरकार की संयुक्त भागीदारी में निवेशकों और उद्यमियों की बैठक को संबोधित कर रहे थे। 
  • बैठक में मणिपुर के मुख्यमंत्री एन. बीरेन सिंह और राज्य के अन्य वरिष्ठ अधिकारियों के साथ-साथ पूर्वोत्तर क्षेत्र के विकास के लिए मंत्रालय सचिव राम मुइवा और प्रमुख उद्यमी भी उपस्थित थे।
  • डॉ. जितेन्द्र सिंह ने कहा कि मणिपुर, त्रिपुरा और असम के पहाड़ी क्षेत्रों की विभिन्न पहचान है और ये क्षेत्र सामाजिक-आर्थिक विकास में पीछे छूट गए हैं। विशेष परिस्थितियां होने के कारण पहाड़ी और घाटी वाले जिलों में आधारभूत ढांचा, सड़कों की गुणवत्ता, स्वास्थ्य और शिक्षा आदि क्षेत्रों में बड़ा अंतर आ गया है।

स्वास्थ्य के कौशल विकास हेतु “स्किल्स फोर लाइफ अभियान शुरू:

  • केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री जेपी नड्डा ने स्वास्थ्य के क्षेत्र में कौशल विकास हेतु स्किल फोर लाइफ, सेव अ लाइफ अभियान की शुरूआत की।
  • नड्डा ने कहा कि भारत जन-सांख्यकीय लाभ की स्थिति में है क्योंकि भारत की 65 फीसदी से अधिक आबादी 35 वर्ष की आयु से नीचे है। 
  • “स्किल्स फोर लाइफ, सेव अ लाइफ” अभियान का उद्देश्य स्वास्थ्य प्रणाली में प्रशिक्षित लोगों की गुणवत्ता और संख्या को बढ़ाना है।
  • इस अभियान तहत कई पाठ्यक्रमों को शुरू करने की योजना है। जिसके तहत हैल्थ केयर के क्षेत्र में अलग-अलग योग्यताओं वाले लोगों को प्रशिक्षित किया जाएगा साथ ही आम लोगों को भी प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा।युवाओं के कुशल होने से उन्हें शीघ्र रोजगार मिलता है और इससे देश समृद्ध होगा। नड्डा ने कहा कि इससे युवाओं को नौकरी मिलने की उम्मीदों वास्तविक नौकरियों की उपलब्धता के बीच अंतर कम होगा। 

एसडीआरएफ के क्षमता निर्माण पर राष्ट्रीय सम्मेलन-2017

  • 6-7 जून, 2017 के मध्य राज्य आपदा मोचन बल के क्षमता निर्माण पर राष्ट्रीय सम्मेलन (National Level Conference on Capacity Building of SDRFs)-2017 का आयोजन विज्ञान भवन, नई दिल्ली में किया जा रहा है।
  • इसका उद्घाटन केंद्रीय गृहमंत्री राजनाथ सिंह ने किया।
  • इस दो दिवसीय सम्मेलन का आयोजन राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) द्वारा किया जा रहा है।
  • सम्मेलन का उद्देश्य राष्ट्रीय और राज्य आपदा मोचन बल के बीच सहयोग को बढ़ावा देना है।
  • उल्लेखनीय है कि केंद्र सरकार द्वारा राज्य आपदा मोचन कोष (NDRF) को आवंटित फंड वर्ष 2010-15 के 33,581 करोड़ रुपये से 82 प्रतिशत बढ़कर वर्ष 2015-20 की अवधि के लिए 61,220 करोड़ रुपये हो गया है।
  • राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) को वर्ष 2016-17 के दौरान 11,441 करोड़ रुपयों की सहायता दी गई, जो वर्ष 2014-15 के दौरान 3,461 करोड़ रुपये थी।

0 comments:

Post a Comment